व्हाइट हाउस में मोदीः आतंकवाद लोकतंत्र के लिए खतरा, मिलकर निपटने का...

व्हाइट हाउस में मोदीः आतंकवाद लोकतंत्र के लिए खतरा, मिलकर निपटने का आवाहन

72
0
SHARE

वाशिंगटन: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने आंतकवाद और उसके सुरक्षित ठिकानों को मिलकर खत्म करने का संकल्प लिया है. प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता के बाद संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान डोनाल्ड ट्रंप ने एक बार फिर से पीएम मोदी को अपना सच्चा मित्र करार दिया. डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि दोनों देश की नौसेनाएं जापान की नेवी के साथ मिलकर साझा अभ्यास करेंगी. साझा बयान में कट्टर इस्लामिक आतंकवाद को लोकतंत्र के लिए खतरा बताते हुए इससे मिलकर निपटने का आह्वान किया गया है.

पीएम मोदी ने कहा कि आतंकवाद जैसी वैश्विक चुनौतियों से अपने समाजों की सुरक्षा अमेरिका और भारत की सबसे बड़ी प्राथमिकताओं में से एक है. क्योंकि विश्व के दो विशाल लोकतंत्रों का साझा सशक्तिकरण हमारा सांझा उद्देश्य है. हमारी ऐसी मजबूत सामरिक भागेदारी है कि मानव प्रयासों से लगभग सभी क्षेत्रों स्पर्श किया है.

उन्होंने कहा कि यह यात्रा दोनों देशों के इतिहास में महत्वपूर्ण पृष्ठ साबित होगी. उन्होंने कहा कि दोनों देश आगे आने वाली चुनौतियों से निपटने के लिए सहभागी हैं. दोनों देशों के बीच आतंकियों से लड़ना, आतंकवाद की सुरक्षित पनाहगाहों से निपटना, आतंकवाद से जुड़ी सूचनाओं का आदान-प्रदान करने पर चर्चा हुई. प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत-अमेरिका के बीच अफगानिस्तान के आतंकवाद पर भी चर्चा हुई. दोनों ही देश वहां के आतंकवाद को लेकर चिंतित हैं. अफगानिस्तान में सुरक्षा-शांति बढ़ाना और वहां के विकास के लिए दोनों देश परस्पर सहयोग बनाए रखेंगे.

प्रधानमंत्री ने कहा कि दोनों देश ग्लोबल इंजन ऑफ ग्रोथ हैं और मेरा न्यू इंडिया का विजन तथा राष्ट्रपति ट्रंप का ग्रेट अमेरिका का विजन, दोनों एक जैसे ही हैं. प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्रपति ट्रंप को सपरिवार भारत आमंत्रित किया.